अकेला रहना और खुद के साथ समय बिताना भला किसे नहीं पसंद होता है? आज की इस भागदौड़ वाली ज़िन्दगी में हम सब चाहते हैं कि जब हम थकहार कर घर पहुंचे तो कुछ समय बेशक ही कुछ पल लेकिन हम अपने साथ बिताएं, लेकिन क्या होता है ना जब कई बार हम घर पर अकेले होते हैं

तो हम कुछ ऐसे काम करने लग जाते हैं जो बेहद ही शर्मिंदगी भरे होते हैं, ऐसे में आज इस पोस्ट के माध्यम से हम आपको 10 ऐसी चीज़ों के बारे में बताने वाले हैं जो कि लड़कियां अमूमन तौर पर अकेले पाकर करती हैं.

पहला काम:

एडल्ट फिल्में देखना. जी हाँ, एक सर्वे में इस बात का ख़ुलासा हुआ है कि जब लड़कियां घर पर अकेले होती हैं तब वो अडल्ट पिक्चर्स देखती हैं लेकिन वो इस बात को कुबूलने में हिचकिचाती हैं.

दूसरा काम:

अपनी फीमेल फ्रेंड के बारे में सोचना, अब आप कहेंगे कि ऐसा कैसा? जहाँ उनको लड़कों के बारे में सोचना चाहिए वो लड़कियों के बारे में क्यों सोचती हैं तो हम आपको बता दें कि ऐसा हम नहीं कह रहे हैं बल्कि ऐसा एक सर्वे में पाया गया है कि लड़कियां अकेले में अक्सर अपनी किसी महिला दोस्त के बारे में सोचती हैं. अब वो क्या सोचती हैं ये हमें आपको बताने की ज़रूरत तो नहीं है.

तीसरा काम:

लड़कियां अगर अकेले हैं तो ज्यादातर लड़कियों की सोच ये होती है कि वो अपनी ब्रा ना ही धोएं. जी हाँ, वो कई कई दिनों तक वही ब्रा पहने रहती हैं बिना उसे धोये या उसे बदले. लड़कियां अगर अकेले हैं तो ज्यादातर लड़कियों की सोच ये होती है कि वो अपनी ब्रा ना ही धोएं. जी हाँ, वो कई कई दिनों तक वही ब्रा पहने रहती हैं बिना उसे धोये या उसे बदले.

चौथा काम:

खुद को छूना. जी हाँ, यहाँ बात सिर्फ उन लड़कियों की नहीं हो रही है जिनके बॉयफ्रेंड होते हैं या जिनके बॉयफ्रेंड नहीं होते. हर लड़की खुद को अकेले पाकर छूना अच्छा समझती है.

पांचवी काम:

अपने शरीर के अंगों को साफ़ करना, जैसे कान और नाक को, क्योंकि आमतौर पर लड़के तो ये सब काम पब्लिक में कर लेते हैं लेकिन लड़कियां शर्म से ये सब काम बंद दरवाज़े के पीछे ही करना पसंद करती हैं.

छठा काम:

खुद को सूँघना. हर लड़की चाहती है कि वो हर समय गुलाबों की तरह महकें. ऐसे में जब भी लड़कियां अकेली होती हैं वो इस बात को सुनिश्चित करती हैं कि वो अच्छा स्मेल कर भी रही हैं या नहीं.

सातवां काम:

लड़कियां भी कई बार लड़कों की तरह कई कई दिन बिना नहाये गुज़ार देती हैं, हाँ वो इस बात को कभी मानेंगी नहीं ये बात अलग है. हाँ वो इस बात को कभी मानेंगी नहीं ये बात अलग है.

आठवां काम:

बात अगर सप्ताहांत की होती है तो कुछ लड़कियां तो नहाना छोड़िये मुंह भी नहीं धोती, क्योंकि कौन बिस्तर से उठे.

नौवां काम:

अपना कंघा साफ़ नहीं करना.